स्वास्थ्य विभाग की गहराती समस्याओं पर राजकुमार ने जताई जिंता

admin
FB IMG 1587127653976

स्वास्थ्य महानिदेशक को सौंपा ज्ञापन

देहरादून। प्रदेश कांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति जनजाति विभाग के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व विधायक राजकुमार ने देश और प्रदेश में कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण की इस दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में प्रदेश वासियों की सेवाओं में कार्यरत चिकित्सक, नर्से, पत्रकार, सफाई कर्मचारी तथा स्वास्थ्य विभाग के समस्त स्टाफ को उनकी कार्य कुशलता पर जहां संतोष व्यक्त किया गया, वहीं दूसरी ओर समस्याओं के समाधान की मांग की गई। उन्होंने कहा कि जो समस्याओं गहराती जा रही है। उनका तत्काल प्रभाव से समाधान किया जाये। इस अवसर पर स्वास्थ्य महानिदेशक ने शीघ्र ही समुचित कार्यवाही का आश्वासन दिया।

यहां प्रदेश कांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति जनजाति विभाग के प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व विधायक राजकुमार ने प्रदेश की स्वास्थ्य महानिदेशक से भेंट करते हुए देश और प्रदेश में कोरोना वायरस कोविड 19 के संक्रमण की इस दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में प्रदेशवासियों की सेवाओं में कार्यरत चिकित्सक, नर्से, पत्रकार, सफाई कर्मचारी तथा स्वास्थ्य विभाग के समस्त स्टाफ को उनकी कार्य कुशलता पर जहां संतोष व्यक्त किया गया, वहीं दूसरी ओर समस्याओं के समाधान की मांग की गई। उन्होंने कहा कि जो समस्याओं गहराती जा रही है उनका तत्काल प्रभाव से समाधान किया जाये। इस अवसर पर उन्होंने स्वास्थ्य महानिदेशक को सौंपे ज्ञापन में कहा है कि भगत सिंह कालोनी में कुछ दिन पूर्व एक छोटी बच्ची की मौत हो गई थी और क्षेत्र में हेल्थ पोस्ट स्टाफ ने उसे चैक किया था या नहीं, यह जांच का विषय है।

FB IMG 1587127667002
उन्होंने कहा कि यदि जांच किया था किया था और बच्ची को गंभीर चोटें आई हुई थी, तो उसे बड़़े चिकित्सालय में रैफर किया जाना चाहिए था, जांच की जानी चाहिए और बहुत सारे वार्डों में हेल्थ पोस्ट खुले हुए हैं, जिन्हें गंभीर बीमारी को देखते हुए बड़े चिकित्सालय में रैफर किये जाने का अधिकार दिया जाये और जिन वार्डों में हैल्थ पोस्ट नहीं है, वहां पर हैल्थ पोस्ट खोले जाने की आवश्यकता है। इसके साथ ही साथ स्टाफ को बढाया जाये।

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को देखते हुए बचाव के लिए कोरोनेशन चिकित्सालय, गांधी नेत्र चिकित्सालय व प्रदेश के समस्त चिकित्सालय जो स्वास्थ्य विभाग के अधीन है, में स्टाॅफ, चिकित्सक, नर्सें, सफाई कर्मचारी, आदि स्टाॅफ बढाये जाये तथा स्टाॅफ की सुविधा के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले माॅस्क या पीपीई किट, गम बूट, दस्ताने तथा नये सफाई उपकरण दिये जाए। प्रदेश में जितने भी संविदा वाले चिकित्सक है उनका नवीनीकरण किया जाये।
उन्होंने कहा कि इसके साथ ही साथ मरीजों को एंटी बायोटिक बच्चों की दवाईयां नहीं मिल पा रही है और चिकित्सालयों में दवाईया उपलब्ध करवाई जाये और अस्थाई राजधानी का एकमात्र राजकीय दून मेडिकल काॅलेज होने के कारण यहां पैथोलाजी लैब, एक्सरे मशीन, सीटी स्कैन मशीन जो खराब पड़ी है, उसे शीघ्र ही ठीक करवाया जाये और मशीन की सेवा मरीजों को चैबीस घंटे उपलब्ध कराये जाने की आवश्यकता है, लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई ठोस प्रयास नहीं किये गये हैं। अधिकांश दवाईयां मरीजों को चिकित्सालय से उपलब्ध नहीं हो पा रही है और जन औघधि केन्द्र में सारी दवाईयां नहीं मिल पा रही हैं। मरीजों को लगातार बाहर से ही महंगी दवाईयां खरीदनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि सभी दवाईयां चिकित्सालय में उपलब्ध करवाई जाये और प्रदेश के सभी चिकित्सालयों में पंजीकृत छोटे, बड़े चिकित्सकों की ओपीडी सुनिश्चित करवाई जाये। उन्होंने कहा कि इन समस्याओं का तत्काल प्रभाव से समाधान किये जाने की जरूरत है और प्रदेश की स्वास्थ्य महानिदेशक ने शीघ्र ही समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया। इस अवसर पर राजेश चौधरी, उदयवीर मल्ल, निखिल कुमार, अशोक शर्मा सहित अनेक कांग्रेसजन शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कैंसर से जूझ रहे पिता के साथ न होकर कोरोना योद्धा बनी हुई हैं महिला कांस्टेबल

पिता कैंसर से जूझ रहे हैं और उत्तराखंड पुलिस की महिला जवान ड्यूटी पर है मुुुस्तैद हल्द्वानी। क्या आप सोच सकते हैं कि किसी के पिता कैंसर जैसी असाध्य बीमारी से जूझ रहे हों और उनके बच्चे उनके साथ खड़े […]
PicsArt 04 17 06.42.37