आखिर होमगार्ड के जवान बृजेश बुटोला की मौत का जिम्मेदार कौन! #mukhyadhara

admin 2

जगदम्बा कोठारी

कुंभ ड्यूटी में तैनात रुद्रप्रयाग जनपद के जखोली विकासखंड के डुमली-मखेत गांव से होमगार्ड के जवान बृजेश बुटोला के आकस्मिक निधन से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है। बीते रविवार शाम हरिपुर कलां के नजदीक एक अज्ञात वाहन ने बृजेश को टक्कर मारी जिससे उनके सिर पर गंभीर चोट लगी और देर रात इलाज के दौरान एम्स ऋषिकेश में उन्होंने अंतिम सांस ली।

आखिर इस जवान की मौत का जिम्मेदार कौन है?
महाकुंभ के आयोजन के लिए गढ़वाल और कुमाऊं के जनपदों से अतिरिक्त फोर्स बढ़ाने के लिए पीआरडी और होमगार्ड के सैकड़ों जवानों को बुलाया गया है। सीमांत जनपदों से आए इन जवानों के लिए हरिद्वार एक नई जगह है और पहाड़ और मैदानी क्षेत्रों के ट्रैफिक में जमीन आसमान का अंतर है। इनमें से कई जवान तो ऐसे हैं जो पहली बार हरिद्वार आ रहे हैं। लेकिन मेला प्रशासन की तरफ से इनके रहने और खाने की व्यवस्था दूर-दूर की गई है। जैसा कि जवान बृजेश बुटोला के साथ हुआ। इनके रहने के लिए शांतिकुंज में व्यवस्था की गई थी लेकिन खाने की व्यवस्था 3 किलोमीटर दूर हरिपुर कलां में थी।

रविवार देर शाम 7:00 बजे करीब बृजेश अपने एवं अपने साथियों के लिए खाना लेने हरिपुर कलां जा रहे थे। तभी ऋषिकेश- हरिद्वार राष्ट्रीय राजमार्ग पर तेज गति से आती कार ने उन्हें टक्कर मार दी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए। स्थानीय लोगों की मदद से उन्हें एम्स ऋषिकेश में भर्ती कराया गया जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। अगर इनके रहने और खाने की व्यवस्था एक ही जगह होती तो शायद 40 वर्षीय बृजेश आज जीवित होते।

कल देर शाम इनका पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव डुमली लाया गया। आज सूर्यप्रयाग घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। वहीं पुलिस टक्कर मारने वाली कार का पता तक नहीं लगा सकी। होमगार्ड के स्टाफ अधिकारी डॉ० राहुल सचान का कहना है कि जवान बृजेश बुटोला अपने किसी रिश्तेदार से मिलने जा रहे थे जहां सड़क दुर्घटना में उनकी मृत्यु हो गई।

विभाग की ओर से उन्हें दो लाख रुपए की आर्थिक सहायता और मृतक आश्रित को नौकरी दी जाएगी। कोविड के दिशा निर्देशानुसार रहने और खाने की व्यवस्था अलग-अलग की गई है।

2 thoughts on “आखिर होमगार्ड के जवान बृजेश बुटोला की मौत का जिम्मेदार कौन! #mukhyadhara

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

एक्सक्लूसिव : आखिर रुद्रप्रयाग के काश्तकार ने माल्टा से लकदक सैकड़ों पेड़ काटने का क्यों लिया निर्णय! पढ़़िए पूरी खबर #mukhyadhara

सत्यपाल नेगी/रुद्रप्रयाग यूं तो प्रदेश में उद्यान विभाग द्वारा काश्तकारों के लिए अनेक योजनाएं लांच किए जाने का दावा किया जाता है, किंतु काश्तकारों को अपनी उपज बेचने के लिए खरीददार न मिलने के कारण उनके सम्मुख रोजी-रोटी का संकट […]
IMG 20210119 WA0010