लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी को किसने किया ब्लैकमेल। फिर नेगीदा ने उसे क्यों किया माफ! जानने के लिए पढ़ें यह पूरी खबर #mukhyadhara

admin 1
negi

देहरादून।  उत्तराखंड के सुप्रसिद्ध लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी को हाल ही में एक युवक ने ब्लैकमेल किया। जिस पर नेगी ने उसके खिलाफ पुलिस में साइबर क्राइम के तहत कार्यवाही करने को लेकर शिकायत कर दी। अब लोक संस्कृति के संवाहक के साथ इस तरह की घटना होने से पुलिस भी तत्काल सक्रिय हो गई और उसे गिरफ्तार कर दिया।

FB IMG 1610378201196
दरअसल लाखों लोगों के दिलों में राज करने वाले लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी का हाल ही में एक नया गढ़वाली गीत ‘क्वी तक बात होली’ लांच हुआ। देखते ही देखते इस गीत ने प्रदेशभर के साथ ही अन्य राज्यों में भी खूब धूम मचाई। इस इस गीत की वजह से नेगीदा को एक युवक ने ब्लेकमेल करना शुरू कर दिया। इस पीड़ा को उन्होंने सार्वजनिक मंच पर इस तरह उजागर किया है।
पुलिस अधीक्षक पौड़ी गढ़वाल को भेजे पत्र में उन्होंने कहा कि मैंने दो जनवरी को साइबर क्राइम के अंतर्गत कार्यवाही हेतु शिकायत की थी। पुलिस तत्काल कार्यवाही करते हुए उसे पौड़ी थाने लेकर आई। पता चला कि वह मात्र 17 साल का है और इंटर में पढ़ रहा है। थाने में उसने अपनी गलती की लिखित माफी मांगी और मेरे कॉपीराइट गीत को अपने एकाउंट से डिलीट कर दिया है तथा भविष्य में ऐसा न करने का वादा भी किया है। नेगी ने बड़ा दिल दिखाते हुए कहा कि उसकी छोटी उम्र और भविष्य को देखते मैंने उसे माफ कर दिया है। उन्होंने पुलिस से अनुरोध किया है कि इस मामले में अब उस पर कार्यवाही न की जाए।
आप भी पढिए नेगी दा ने गढ़वाली में क्या अपील की :-narendra singh negi

यह भी पढें : विधायक महेश नेगी को फिलहाल हाईकोर्ट से राहत #mukhyadhara

One thought on “लोकगायक नरेंद्र सिंह नेगी को किसने किया ब्लैकमेल। फिर नेगीदा ने उसे क्यों किया माफ! जानने के लिए पढ़ें यह पूरी खबर #mukhyadhara

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उत्तराखंड : बर्ड फ्लू (Bird Flue) की पुष्टि होने से प्रदेश में रेड अलर्ट जारी #mukhyadhara

देहरादून। उत्तराखंड में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई है, जिसके बाद प्रदेशभर में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है। देहरादून व अन्य जगह में मृत पक्षी पाए गए थे। जिसके बाद उनका सेंपल लिया गया, जिसमें कुछ में […]
bird flue in uttarakhand