आज भी अंधेरे में रात काटने को मजबूर हैं यह ग्रामीण

admin
IMG 20190810 WA0044

उत्तरकाशी। पूर्व व वर्तमान केंद्र व प्रदेश सरकार भले ही दूरदराज ग्रामीण क्षेत्रों व तोकों में नाम बदल बदल कर राजीव गांधी व दीनदयाल उपाध्याय विधुतीकरण योजना के तहत गांव को रोशन करने के दावे करते हो, किंतु योजना की धरातलीय सच्चाई का अंदाजा मोरी आराकोट क्षेत्र के थुनारा समेत दर्जनों तोकों से लगाया जा सकता है जहां 8 वर्ष बाद भी विधुतीकरण तो दूर खंभे व लाईन तक जर्जर हो कर क्षतिग्रस्त हो गये  है।

IMG 20190810 WA0043

राजीव गांधी ग्रामीण विधुतीकरण योजना के तहत 2010-11 में मोरी के आराकोट न्याय पंचायत के अंर्तगत थुनारा गांव, कसेडी, जाखधार, शिसन, भींडा बागडोली, डंडराली, डासटी, इशाली, धुनियाया व रूनवा आदि दर्जनभर गांव तोकों विधुतीकरण को शासन ने स्वीकृति दी।

2012-13 में लाईन बिछानें कार्य भी शुरू हुआ, किंतु आज तक राजस्व गांव थुनारा के अलावा किसी भी तोक में बिजली आना तो दूर, न तो मानकों के अनुरूप खंभे  गाड़़े गये न ही लाईन बिछाई गई।

IMG 20190810 WA0041

लाईन बिछाने का आलम यह है अधिकांश खंभे मानकों के उलट गड्ढों में खंबें गाड़ने में सीमेंट व रोड़ी न डालकर मिट्टी में खड़े कर दिये गये हैं। व कई खंभे  तो एक माह में ही गिर गये। थुनारा के किशोर राणा, नरेश राणा, महेश राणा ने बताया कि थुनारा गांव व 10 तोको में 473 परिवार की डेढ हजार की आबादी रहती हैं तथा स्वीकृति व निमार्ण शुरू होने के आठ वर्ष बाद भी थुनारा गांव के अलावा तोकों में अंधेरा है, जबकि विधुतीकरण कार्य में तेजी लाने, लाईन बिछाने, पोल गाडने के कार्य में बरती गई अनियमितता की जांच की कई बार मांग की गई, पर कोई सुनने वाला नहीं है।

IMG 20190810 WA0042

राज्य आंदोलनकारी किशोर राणा कहते हैं कि डडराली, बागडोली, कसेडी, शीसन, डामठी समेतधुनियारा, जाखधार, भींडा, इशाडी आदि तोकों में 79 व थुनारा गांव में 72 परिवारों कुल 151 परिवारों की 695 की आबादी आज भी अंधेरे में राते काटने को मजबूर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

रूट स्टाक आधारित सेब प्रजाति से संवरेगी जिंदगी

उत्तरकाशी। आने वाले समय में रंवाई घाटी में रूट स्टाक आधारित सेब बागवानी आय का बडा जरिया बन सकती है। जो ग्रामीण काश्तकारों की आर्थिकी को मजबूत करने के साथ ही रोजगार का बडा जरिया बन कर पलायन पर रोक […]
IMG 20190810 232900