उत्तरकाशी : सड़क व स्वास्थ्य सेवाओं के अभाव में गर्भवती महिला ने गवाईं जान

admin
IMG 20201106 WA0007

नीरज उत्तराखण्डी/पुरोला

सड़क एवं स्वास्थ्य सेवा की सुविधाओं के अभाव में जनपद उत्तरकाशी के विकासखंड मोरी के आराकोट बंगाण क्षेत्र के सुदूरवर्ती देवती गांव की गर्भवती महिला को समय पर उपचार न मिलने से अपनी जान गंवानी पड़ी।
विगत बुधवार को देवती गांव निवासी खेती मजदूरी करने वाले अनिल की गर्भवती पत्नी किरण को प्रसव पीड़ा हुई तो परिजनों ने उसे ग्रामीणों के सहयोग से सड़क के अभाव में डंडी में उठाकर 6 किमी. की पैदल पंगडंडी से ठडियार झूला पुल होते हनोल मोटर मार्ग तक किसी तरह पहुंचाया।
हनोल से प्रसव पीड़िता को एम्बुलेंस से राजकीय अस्पताल त्यूनी लाया गया। जहां स्वास्थ्य संसाधनों के अभाव में चिकित्सक ने प्राथभिक उपचार के बाद उसे हिमाचल के रोहडू राजकीय अस्पताल के लिए रेफर किया। देर शाम रोहडू से हायर सेंटर शिमला के लिए रेफर कर दिया, जहां शिमला ले जाते समय रास्ते में उसने दम तोड़ दिया।
वीरवार को परिजन जब शव को लेकर गांव पहुंचे तो गांव में गम और गुस्से का मातम छा गया। गर्भवती महिला की अकाल मृत्यु से सभी की आंखें नम हो गई। अव्यवस्था ने तीन मासूम बच्चों के सिर से हमेशा के लिए मां का साया छीन लिया।
बतातें चले कि इससे पूर्व भी स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव त्यूनी में झूला पर महिला का प्रसव हुआ था। मोरी व त्यूनी अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाओं संसाधनों और महिला चिकित्सक का अभाव है, जिसके चलते गर्भवती महिलाओं को प्रसव के दौरान खासी फजीहत झेलने के साथ ही जान की बाजी लगानी पड़ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

रुद्रप्रयाग के राजस्व गांवों का जीआईएस डिजिटलाइजेशन का कार्य शुरू

सत्यपाल नेगी/रुद्रप्रयाग  राज्य सरकार व जिला प्रशासन के प्रयास से जनपद के राजस्व गांवों का भौगौलिक सूचना तंत्र (जीआईएस) की सहायता से डिजिटलाइजेशन का कार्य शुरू हो चुका है। केदारनाथ राजस्व ग्राम से शुरू हुए डिजिटलाइजेशन का कार्य ड्रोन व […]
IMG 20201106 WA0013