समाज कल्याण विभाग के कारनामे से हर कोई हैरान। दिव्यांग रतन को जीतेजी मार डाला

admin
IMG 20200213 WA0027

उत्तरकाशी से नीरज उत्तराखंडी

उत्तरकाशी जनपद में एक अजब गजब किस्सा सामने आया है, जहां मोरी ब्लाक के सटूडी गांव निवासी दिव्यांग रतन सिंह को तहसील और समाज कल्याण विभाग ने कागजों में मृत दिखाने की वजह से पेंशन योजना से वंचित होना पड़ा। और जिला अधिकारी के समक्ष जा कर कहना पड़ा ‘साहब मैं जिन्दा हूँ ‘ मेरी पेंशन लगवा दो।

जिला अधिकारी डा. आशीष चौहान ने मामले को गम्भीरता से लिया और तीन सदस्यीय टीम बना कर जांच के आदेश दिए हैं।

जनपद उत्तरकाशी के सीमांत विकास खण्ड मोरी के ग्राम सटूडी के दिव्यांग रतन को जिंदा होने पर भी कागजों में मृतक दिखाने की वजह से पेंशन नहीं मिल पा रही है।
समाज कल्याण और तहसील मोरी की इस घोर लापरवाही का खुलासा तब हुआ जब दिव्यांग रतन सिंह निवासी सटूड़ी डीएम से पेंशन की गुहार लगाने जिला मुख्यालय उत्तरकाशी जा पहुंचे ।

बताया जा रहा है पिछले तीन महीने पूर्व भी पीड़ित परेशान दिव्यांग रतन सिंह पुत्र रघुवर सिंह डीएम के पास पेंशन की गुहार लगाने गये लेकिन अब रिकॉर्ड से पता चला है कि उसे कागजों में मृतक घोषित कर दिया है।
डीएम ने मामले को गंभीरता से लिया है और सबंधित विभाग से इस मामले में संपूर्ण जांच को कहा है।
इस पर एक कमेटी बनाकर जांच कराए जाने की बात भी डीएम डॉ. आशीष चौहान ने कही है।
बतातें चलें कि दिव्यांग रतन सिंह पुत्र रघुवर सिंह को कागजों में मृतक बताया गया है। पेंशन पाने के लिए कई जतन कर चुके रतन सिंह आखिर डीएम से मिलने जिला मुख्यालय उत्तरकाशी जा पहुंचे और अपने जिंदा होने के साक्षात प्रमाण देकर कहा साहब मैं जिन्दा हूँ! मेरी पेंशन लगवा दो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

आप भी जरूर पढिए पहाड़ की इस लोकप्रिय क्लासिक प्रेमकथा : कोसी का घटवार (पनचक्कीवाला)

अभी खप्पर में एक-चौथाई से भी अधिक गेहूं शेष था। खप्पर में हाथ डालकर उसने व्यर्थ ही उलटा-पलटा और चक्की के पाटों के वृत्त में फैले हुए आटे को झाडक़र एक ढेर बना दिया। बाहर आते-आते उसने फिर एक बार […]
FB IMG 1581617040991