विश्व पर्यावरण दिवस पर पिंडर रेंज थराली में पौधारोपण कार्यक्रम। प्लास्टिक का उपयोग न करने का आह्वान

admin
IMG 20200605 WA0009

चमोली। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर मध्य पिंडर रेंज थराली में कर्मचारियों एवं अधिकारियों ने पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया। इस अवसर पर क्षेत्रवासियों से पॉलीथिन का उपयोग न करने का आह्वान किया गया।
मध्य पिंडर रेंज थराली बद्रीनाथ वन प्रभाग गोपेश्वर के अंतर्गत रेंज कार्यालय थराली के नजदीक थराली रिजर्व में वन क्षेत्राधिकारी गोपाल सिंह बिष्ट की अध्यक्षता में स्टाफ के समस्त कर्मचारी एवं अधिकारियों ने पर्यावरण दिवस पर विभिन्न औषधीय गुणों से भरपूर पौधों का रोपण किया गया। जिनमें अनार, च्यूरा तथा आंवला का विशेष रूप से रोपण किया गया। इस पौधारोपण कार्यक्रम में सरपंच व पंचायत ढालूू एवं सचिव पंचायत संगठन उत्तराखंड महिपाल सिंह रावत ने भी प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर मध्य पिंडर रेंज थराली के वन क्षेत्राधिकारी गोपाल सिंह बिष्ट द्वारा अपने घरों के आसपास पर्यावरण संरक्षण के लिए खाली पड़ी भूमि पर फल चारा एवं औषधीय पौधों का अधिक से अधिक रोपण करने के लिए प्रेरित किया गया साथ ही पॉलिथीन का उपयोग न करने के लिए क्षेत्र की ग्रामीण जनता से भी उन्होंने अपील की।
इस अवसर पर वन क्षेत्राधिकारी गोपाल सिंह बिष्ट का कहना है कि प्रकृति और पर्यावरण का संरक्षण करके हम न केवल सृष्टि की रक्षा करेंगे, अपितु समस्त प्राणियों को सुखद एवं आनंददायक जीवन देनं में भी सफल होंगे। उन्होंने विश्व पर्यावरण के अवसर पर समस्त क्षेत्रवासियों से अधिक से अधिक पौधारोपण करने का अनुरोध किया है। साथ ही पर्यावरण को स्वच्छ और हरा-भरा रखने में सहयोग की अपील की है।

IMG 20200605 WA0013
विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर वृक्षारोपण कार्यक्रम में वन दारोगा भरत सिंह बिष्ट, गिरधारी सिंह बिष्ट, भुवन चंद्र सिंह गुसाईं, खीमानंद खंडूरी तथा आरक्षी रघुवीर लाल, हुकुम सिंह रावत, सोनी बिष्ट, रमेश कश्यप, गजेंद्र प्रसाद, सुजान सिंह, राखी गुसाईं, खड़क सिंह, गब्बर सिंह, योगेंद्र सिंह आदि ने प्रतिभाग किया।

IMG 20200605 WA0004

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

corona अपडेट उत्तराखंड : उत्तराखंड में आज 62 मामले। कुल पहुंचे 1215 पर

मुख्यधारा ब्यूरो देहरादून। एक समय था जब उत्तराखंड में इक्के-दुक्के संक्रमित मामले सामने आते थे। कई बार तो ऐसा भी हुआ कि लगातार पांच-छह दिन तक प्रदेश में एक भी मामला नहीं आया। इससे प्रदेश में राहत महसूस की जा […]
images 28