आवारा कुत्तों को पकडऩे के लिए युवाओं को देंगे प्रशिक्षण

admin

नैनीताल।  जिलाधिकारी  सविन बंसल ने बताया कि आवारा श्वान पशु जनता के लिए सिरदर्द न बने, इस बात पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। बंसल ने बताया कि आवार कुत्तों को पकड़ने के लिए नगर पालिका परिषद नैनीताल, भवाली एवं भीमताल के 10 युवा कार्मिकों का बैच बनाकर प्रशिक्षण दिलाये जाने के निर्देश सम्बन्धित नगर पालिकाओं के अधिशासी अधिकारियों को दिये गये हैं।

उन्होंने बताया कि यदि कार्मिकों के प्रशिक्षण में किसी भी प्रकार की समस्या है तो उसके बारे में तत्काल जिला कार्यालय में सूचना उपलब्ध कराने के निर्देश सभी ईओ को दिये गये हैं। आवारा श्वान पशुओं के बध्याकरण शल्य चिकित्सा एवं रैबीज टीकाकरण अभियान से पहले पर्याप्त मात्रा में जन-जागरूकता अभियान चलाया जाए, साथ ही श्वान पशुओं के कैचिंग एवं हैण्डलिंग से सम्बन्धित उपकरण आवश्यकतानुसार क्रय किये जायें।
बंसल ने बताया कि एचएसआई तथा पुशपालन विभाग को संयुक्त रूप से आवारा श्वान पशुओं के बधियाकरण कार्यक्रमों एवं शिविरों का संचालन करने, बधियाकरण कार्यक्रम में एसओपी-ए.डब्लू.बीआई की गाईड लाईंस एवं एबीसी रूल्स का अनुपालन करते हुए बाधियाकरण कार्यक्रम संचालित करने के निर्देश दिए भी दिए हैं। उन्होंने बताया कि आयोजित होने वाले बधियाकरण कार्यक्रम एवं शिविरों का तिथिवार प्लान बनाकर अवलोकित कराने के निर्देश भी अधिशासी अधिकारियों को दिए गए हैं।
नगर पालिका परिषद नैनीताल में 25 सितम्बर से पुनः प्रारम्भ किया जाएगा। बधियाकरण अभियान हेतु प्रति पशु 950 रूपये की दर निर्धारित की गयी है, जिसमें 429 रूपये प्रति श्वान पशु की दर से राज्यांश आवंटन बजट से एवं 521 रूपये (परिवहन सहित) प्रति श्वान पशु की दर से सम्बन्धित नगर पालिकाओं द्वारा वहन किया जाएगा। बधियाकरण शल्य चिकित्सा एवं रैबीजरोधी टीकाकरण कार्यक्रम को शीघ्रता से शतप्रतिशत पुरा कर लिया जाए। बधियाकरण कार्यक्रम में भौमिक पशु सुरक्षा सेवा समिति अल्मोड़ा को भी शामिल करने के निर्देश दिए हैं। बसंल ने बताया कि पूर्व में एचएसआई द्वारा संचालित बधियाकरण अभियान के मूल्यांकन के लिए नगर के दो वार्डों में सर्वेक्षण किया जाएगा, जिसके लिए अधिशासी अधिकारी श्वान बहुल्य क्षेत्र वाले दो वार्डों का चिन्हांकन करेंगे। सर्वे में चिन्हित (मंत दवजबीमक) आवारा श्वान पशुओं के व्यवहार, बधियाकरण किये गये पशुओं का प्रतिशत, पशुओं की संख्या आदि मानकों की जाॅच की जाये।
जिलाधिकारी  सविन बंसल ने बताया कि बीडी पाण्डेय चिकित्सालय नैनीताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को प्रति सप्ताह श्वान पशुओं द्वारा काटे गये मरीजों की संख्या व उनके नाम, पते एवं मोबाईल नम्बर की सूचना निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अब प्राइवेट कंपनी करेगी पीडब्ल्यूडी के कार्यों की गुणवत्ता जांच

देहरादून। लोक निर्माण विभाग द्वारा कराए जाने वाले 5 करोड़ से अधिक की लागत के कामों की गुणवत्ता की जांच का काम प्राइवेट कंपनी को सौंप दिया गया है। इस संबंध में शासन की ओर से मुख्य अभियंता को आदेश […]
Public Works Department PWD