भागवत कथा महापुराण डांग अगरोड़ा कल्जीखाल में शामिल हुए द्वारीखाल प्रमुख महेंद्र राणा। व्यास व 11 पंडितों को किया अंगवस्त्र भेंट

admin
PicsArt 07 17 08.12.20

पौड़ी/मुख्यधारा

द्वारीखाल प्रमुख महेन्द्र सिंह राणा ने आज कल्जीखाल ब्लॉक के ग्राम डांग अगरोड़ा में आयोजित भागवत महापुराण कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। इस मौके पर भागवत कथा के आचार्य व्यास शान्ता प्रसाद डन्डरियाल ने माता अनुसूया की पतिव्रता धर्म की कथा एवं राजा दक्ष की पुत्री सती के अग्निकुण्ड में प्रवेश की कथा तथा दक्ष के यज्ञ को विध्वंस की कथा भक्तों को सुनाई। व्यास ने बताया कि अहंकार का त्याग करते हुए कम से कम एक अच्छा गुण कथा से लेकर जाना चाहिए।

PicsArt 07 17 08.11.56

उक्त भागवत कथा महापुराण के यजमान दिगम्बर सिंह रावत उनके संपूर्ण बन्धु बान्धवों रिश्तेदारों एवं ग्रामवासियों के सहयोग से उनके स्व. पिता मदन सिंह एवं स्व. माता रामेश्वरी देवी एवं उनके अल्प अवस्था में छोटे पुत्र स्व. केशव रावत की मृत्यु होने पर उक्त पुण्य आत्माओं की शान्ति एवं भवसागर से तारण हेतु उनकी पुण्य स्मृति में इस महायज्ञ का आयोजन किया गया है।

PicsArt 07 17 08.12.43

आज के मुख्य यजमान के रूप में ब्लॉक प्रमुख द्वारीखाल सभी 11 पण्डितोंं एवं व्यास जी को अंगवस्त्र एवं दक्षिणा देकर पुण्य के भागी बने तथा सभी पण्डितजनों से आर्शीवाद ग्रहण किया।

इस अवसर पर शैलेन्द्र नौटियाल, कनिष्छ प्रमुख कल्जीखाल अर्जुन सिंह, प्रधान दिवई अर्जुन पटवाल, प्रधान साकिनी देवेन्द्र, दीपक असवाल, सन्तोष रावत, जयकृत सिंह थपलियाल, क्षेत्र पंचायत सकिनी राकेश नैथानी एवं राकेश असवाल उपस्थित थे।

यह भी पढे : Breaking : मरीजों को देख रहे सरकारी डॉक्टर को आखिर क्यों धमकाया इस अधिकारी ने? डॉक्टर ने क्यों दिया इस्तीफा? जानिए पूरा मामला

यह भी पढे : स्वास्थ्य मंत्री का श्रीनगर विधानसभा क्षेत्र में जोरदार स्वागत। श्रीनगर, खिर्सू, पैठाणी में उमड़ी भारी भीड़

यह भी पढे : बड़ी खबर : परिवहन निगम के कर्मचारियों के लिए 34 करोड़ स्वीकृत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

योगनगरी में हुक्का गुड़गुड़ाकर हुड़दंग करने वाले तीन गिरफ्तार। मुकदमा दर्ज

ऋषिकेश/मुख्यधारा देवभूमि उत्तराखंड में आजकल बाहरी प्रदेशों के लोग खूब हुड़दंग मचा रहे हैं। कभी धर्मनगरी हरिद्वार के हरकीपैड़ी पर हुक्का पीना हो, या गंगा तीरों पर केक पार्टी के रूप में जश्न मनाना उत्तराखंड की शांत वादियों में जहर […]
hukka