दुखद हादसा: कुवैत से 45 भारतीयों के शवों विशेष विमान से भारत लाया गया, अग्निकांड में जान गंवाने वाले केरल, तमिलनाडु, यूपी और बिहार के थे - Mukhyadhara

दुखद हादसा: कुवैत से 45 भारतीयों के शवों विशेष विमान से भारत लाया गया, अग्निकांड में जान गंवाने वाले केरल, तमिलनाडु, यूपी और बिहार के थे

admin
h 1 7

दुखद हादसा: कुवैत से 45 भारतीयों के शवों विशेष विमान से भारत लाया गया, अग्निकांड में जान गंवाने वाले केरल, तमिलनाडु, यूपी और बिहार के थे

मुख्यधारा डेस्क

खाड़ी के देश कुवैत में दो दिन पहले एक बिल्डिंग में लगी आग से 45 भारतीयों के दुखद मौत हो गई थी। यह सभी मृतक अलग-अलग राज्यों के थे। कुवैत के मंगाफ शहर की एक ऊंची इमारत में बुधवार सुबह आग लग गई। जिस समय यह घटना हुई सभी लोग गहरी नींद में सो रहे थे।

हादसे के बाद मोदी सरकार ने विदेश राज्य मंत्री कीर्ति वर्धन सिंह को हादसे में मारे गए भारतीय लोगों के शव को लाने के लिए भेजा था। शुक्रवार को आग में मारे गए 45 भारतीयों के शव लेकर भारतीय वायुसेना का स्पेशल एयरक्राफ्ट भारत पहुंच गया है। यह केरल के कोच्चि एयरपोर्ट पर लैंड हुआ, क्योंकि मृतकों में सबसे ज्यादा 23 लोग केरल के हैं। इसके बाद एयरक्राफ्ट दिल्ली जाएगा।

यह भी पढ़ें : तीसरे कार्यकाल के बाद पीएम मोदी आज पहली बार विदेश दौरे पर होंगे रवाना, इस देश में होने जा रहे जी-7 शिखर सम्मेलन में होंगे शामिल

जान गंवाने वाले अन्य 22 लोगों में तमिलनाडु के 7, आंध्र-उत्तर प्रदेश के 3-3 और बिहार, ओडिशा, कर्नाटक, महाराष्ट्र, झारखंड, हरियाणा, पंजाब और पश्चिम बंगाल के 1-1 लोग हैं। एक मृतक किस राज्य का है, इसकी जानकारी अब तक नहीं मिली है। कुवैत पहुंचे विदेश राज्य मंत्री कीर्तिवर्धन सिंह कुवैत गए थे। उन्होंने 5 अस्पतालों का दौरा किया, जहां घायल भारतीयों का इलाज किया जा रहा है। कीर्तिवर्धन सिंह आज उसी एयरक्राफ्ट से वापस लौटे हैं, जिनसे शवों को लाया गया है।

कुवैत के मंगाफ शहर की एक बिल्डिंग में 12 जून को लगी आग में कुल 49 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 50 से ज्यादा लोग घायल हैं। इनमें से 48 शवों की डीएनए टेस्ट के जरिए पहचान की गई, जिसमें 45 भारतीय निकले, जबकि 3 फिलिपींस के हैं। हालांकि, पहले मृतकों में नेपाल, पाकिस्तान और मिस्र के नागरिक होने की बात भी कही जा रही थी। केंद्रीय मंत्री सुरेश गोपी भी कोच्चि एयरपोर्ट पहुंचे । उन्होंने कहा कि यह त्रासदी इतनी बड़ी है कि यह प्रवासी समुदाय पर आघात है।

यह भी पढ़ें : विभागीय मंत्री गणेश जोशी के आदेश के बाद उद्यान विभाग में तैनात दैनिक श्रमिकों के मानदेय में हुई बढ़ोतरी

उन्होंने कहा कि इन्हीं लोगों ने केरल की आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने में मदद की। व्यक्तिगत क्षति हर घर की है जो इस त्रासदी से प्रभावित हुआ है। सुरेश गोपी ने कहा कि भारत सरकार उचित कार्रवाई और निर्णय लेगी और बहुत उचित राहत प्रदान करेगी।

Next Post

मुख्य सचिव ने 16वें वित्त आयोग (Finance Commission) से उत्तराखण्ड के विशेष सन्दर्भ में किए कई महत्वपूर्ण अनुरोध

मुख्य सचिव ने 16वें वित्त आयोग (Finance Commission) से उत्तराखण्ड के विशेष सन्दर्भ में किए कई महत्वपूर्ण अनुरोध राज्य के सभी विभागों को ऑनरशिप की कार्यशैली से कार्य करने की सख्त हिदायत देते हुए सीएस राधा रतूड़ी ने सभी विभागों […]
r 1 22

यह भी पढ़े