गैरसैंण में होगी मूल निवास स्वाभिमान महारैली - Mukhyadhara

गैरसैंण में होगी मूल निवास स्वाभिमान महारैली

admin
m 1 4

गैरसैंण में होगी मूल निवास स्वाभिमान महारैली

  • चारधाम यात्रा से जुड़े मूल निवासियों का रोजगार ठप
  • रजिस्ट्रेशन की बाध्यता हो खत्म, सरकार करे बेहतर इंतजामात

देहरादून/मुख्यधारा

मूल निवास, भू- कानून समन्वय संघर्ष समिति गैरसैण में प्रस्तावित मूल निवास स्वाभिमान आंदोलन की तैयारी में जुट गई है। समिति इसी हफ्ते गैरसैण में एक अहम बैठक करने जा रही है। इसके साथ ही समिति ने चारधाम यात्रा में हो रही अव्यवस्थाओं के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

देहरादून स्थित शहीद स्मारक में आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए मूल निवास, भू-कानून समन्वय संघर्ष समिति के संयोजक मोहित डिमरी ने कहा कि आचार संहिता में अनुमति न मिलने के कारण मूल निवास स्वाभिमान महारैली स्थगित करनी पड़ी। अब गैरसैण में महारैली होनी है। जिसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। प्रदेश भर से गैरसैण में भी हजारों-हजार लोग इस आंदोलन का हिस्सा बनेंगे।

यह भी पढ़ें : नई सरकार : इस बार मोदी मंत्रिमंडल (Modi Cabinet) का ‘बड़ा आकार’, 7 महिलाओं को मिली जगह, जानिए कौन कैबिनेट और कौन बने राज्य मंत्री

इसके साथ ही उन्होंने चारधाम यात्रा में हो रही अव्यवस्था के लिए सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन न होने से मूल निवासियों का रोजगार बुरी तरह प्रभावित हो गया है। उन्होंने रजिस्ट्रेशन की सभी तरह की बाध्यता खत्म करने की मांग की है। साथ ही कहा कि सरकार को यात्रा प्रबंधन के लिए बेहतर इंतजामात करने चाहिए। यात्रियों को नहीं रोका जाना चाहिए। इनसे सभी तरह के व्यवसायियों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। समिति यात्रा से प्रभावित हो रहे व्यवसायियों से मुलाकात करेगी। हरिद्वार और ऋषिकेश में रजिस्ट्रेशन के नाम पर यात्रियों से पैसा वसूलने की शिकायतें मिल रही हैं। हेलीकॉप्टर टिकट की ऑनलाइन बुकिंग नहीं हो रही। लेकिन टिकटों की ब्लैक मार्केटिंग जारी है।

सह संयोजक लुशुन टोडरिया ने कहा कि मास्टर प्लान के नाम पर बद्रीनाथ में मूल निवासियों की अनुमति के बिना भवन-दुकानें तोड़ी गई। लेकिन अभी तक उन्हें मुआवजा नहीं दिया और ना ही उनके पुनर्वास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मास्टर प्लान के दायरे से बाहर के भवन भी तोड़ने की तैयारी चल रही है। मूल निवासियों को बेघर करने की सरकार की मंशा स्पष्ट दिखाई दे रही है।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर: उत्तराखंड में दोपहिया वाहनों (Two wheelers) पर पीछे बैठने वालों के लिए फिर शुरू होगा हेलमेट पहनना अनिवार्य: राधा रतूड़ी

समिति के कोर मेंबर प्रांजल नौडियाल ने कहा कि केदारनाथ में विकलांगों और बीमार लोगों की सुविधा के नाम पर थार पहुँचाई गई है, लेकिन यहां वीआईपी लोगों की सुविधा के लिए थार का उपयोग हो रहा है। थार से बेहतर यहां एम्बुलेंस की व्यवस्था होनी चाहिए थी।

समिति के सदस्य प्रमोद काला, मीनाक्षी घिल्डियाल, देवचंद उत्तराखंडी, अनिल डोभाल, विपिन नेगी, योगेंद्र रावत, प्रभात डंडरियाल, अंशुल भट्ट ने कहा कि आज अपने ही राज्य में मूल निवासी हाशिये पर हैं। सभी तरह के संसाधन मूल निवासियों के हाथ से निकलते जा रहे हैं। अब यात्रा से जुड़े मूल निवासियों का रोजगार भी प्रभावित हो गया है। यह हम सभी के लिए चिंता का विषय है।

यह भी पढ़ें :दून विश्वविद्यालय के डा. हरीश अन्डोला सम्मानित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी होंगे नए थल सेना अध्यक्ष, मनोज पांडे की लेंगे जगह, केंद्र सरकार ने लगाई मुहर

लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी होंगे नए थल सेना अध्यक्ष, मनोज पांडे की लेंगे जगह, केंद्र सरकार ने लगाई मुहर मुख्यधारा डेस्क मत्रिमंडल गठन के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने पहली नियुक्ति थल सेना अध्यक्ष को लेकर की। लेफ्टिनेंट जनरल […]
l

यह भी पढ़े