जौनसार बावर लोक कला मंच के कलाकारों ने बिखेरा लोक कला का जादू 

admin
kala
पुरोला उत्तरकाशी से नीरज उत्तराखण्डी की रिपोर्ट
जौनसार बावर की माटी के लाल नंद लाल भारती ने पुरोला में आयोजित बसंत उत्सव एवं  विकास मेला ‘बाजार की जातर’ में  लोक संस्कृति बिखेर कर सबको रिझा दिया।
 नब्बे के दशक में ‘गजुमला’ आडियो कैसेट रिलीज होने के साथ ही  अपनी सांस्कृतिक यात्रा शुरू करने वाले  नंद लाल भारती आज  किसी परिचय का मोहताज नहीं हैं। ये वही नंद लाल भारती हैं जिन्होंने उतराखण्ड की लोक संस्कृति की कश्मीर  से लेकर कन्याकुमारी तक देश में ही नहीं विदेश में भी बखूबी  बिखेरी  है।
बताते चलें कि  2016 में  नंद लाल भारती के नेतृत्व में विश्व सांस्कृतिक महोत्सव में उतराखण्ड के 400 लोक कलाकारों के साथ 7 एकड़ के मंच पर 35000 कलाकारों के साथ विश्व के 155 देशों के राष्ट्र अध्यक्षों के समक्ष प्रस्तुति देकर अपनी काबिलियत की पताका और देश की लोक संस्कृति की विश्व में खुशबू बिखेर चुके हैं।
kala1
नंद लाल जौनसार बावर की माटी के सपूत है, जिन्होंने लोक कला मंच  की स्थापना कर जौनसारी लोक संस्कृति को संरक्षित और संरक्षित का जो काम किया है, वह ऐतिहासिक और अविस्मरनीय है।
नंद लाल भारती जनआंदोलन से भी जुड़े रहे और अपने गीत संगीत और लोक संस्कृति के रंग विखरने के साथ साथ गीतों के माध्यम से जन चेतना लाने का भी प्रयास करते रहे। यही वजह है कि उन्हें विभिन्न पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया है और आज भी उनकी लोक यात्रा जारी  है।
पुरोला में आयोजित बंसत उत्सव एवं विकास मेला बाजार की जातर में जौनसार बावर लोक कला मंच की प्रस्तुति की एक झलक ने सबको रिझा दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

केन्द्रीय विद्यालय पौड़ी अपने नव निर्मित भवन में अप्रैल में होगा शिफ्ट

पौड़ी। जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने केन्द्रीय विद्यालय पौड़ी को अपने नव निर्मित भवन में शिप्टिंग करने हेतु संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होने विद्यालय के प्रधानाचार्य को नये सत्र शुभारंभ से पूर्व अप्रैल माह तक विद्यालय को अपने भवन […]
pauri