लाॅकडाउन में भी उत्तराखण्ड में अफसरों की ‘शह’ पर शराब ‘घोटाला’

admin
cbe2daac 57d8 47d1 ab19 25a543197469

देहरादून। लॉकडाउन घोषित होने से ठेकों में डम्प हुई शराब आबकारी विभाग के अधिकारियों और शराब व्यवसायियों के लिये ‘पैसों का पेड़’ साबित हुई। रात के अंधेरे में प्रदेशभर के शील्ड ठेकों में से ज्यादातर खाली कर दिये गये। चोरी-छिपे ठेकों से निकाली गई लाखों की शराब करोड़ों में बेची गई।

तस्करी की तर्ज पर हुए इस खेल में सरकार को न तो नफा हुआ और न ही नुकसान, लेकिन अफसरों और ठेकेदारों का गठजोड़ ‘चांदी का काट’ गया। कानून के रखवालों ने ही कानून ताक पर रख दिया और सरकार हाथ मलती रह गई।
बीते 22 मार्च को देशव्यापी बंदी की वजह से शराब के ठेकों (अंग्रेजी और देशी) में बड़ी मात्रा में माल डम्प हो गया। चूंकि लॉकडाउन लम्बा खिंचता चला गया तो शराब व्यवसायियों को चिंता सताने लगी कि 31 मार्च को वित्तीय वर्ष समाप्त होने पर कहीं उनकी ओर से एडवांस में जमा अधिभार (निर्धारित कोटे की कीमत) लैप्स न हो जाये और लॉकडाउन खुलने पर उन्हें डम्प शराब औने-पौने दाम पर न बेचनी पड़े।

नुकसान की आशंका से डरे ठेकेदारों ने आबकारी विभाग से मिलीभगत कर ठेको में डम्प शराब बाहर निकालने की योजना बनाई। जब बात बन गई तो रात के अंधेरे में शील्ड ठेकों से अधिकांश माल बाहर निकाल लिया गया। उसके बाद से शराब नशे के लिये छटपटा रहे शैकीनों को ढाई से तीन गुना अधिक दाम पर बेची गई। बेची ही नहीं, बल्कि घरों में तक सप्लाई की गई। ये खेल सिर्फ उन ठेकों में नहीं हो पाया, जो शहरों में लगे कैमरों की जद में हैं।

निष्पक्ष जांच हुई तो आसानी से पकड में आ जाएगा खेल

शराब के सरकारी ठेकों में संचालक को दो रजिस्टर मेंनटेन करने पड़ते हैं। सेल और स्टॉक रजिस्टर। सेल रजिस्टर जिसे के फोल्डर भी कहा जाता है, में रोजाना की सेल (पव्वे से लेकर बोतल तक) की डिटेल भरी होती है, जबकि स्टॉक रजिस्टर में सेल के बाद ठेके में मौजूद शराब के स्टॉक का ब्रांड सहित ब्यौरा दर्ज होता है। रोजाना यह जानकारी आबाकरी इंस्पेक्टर को भी दी जाती है। यदि सरकार इन दस्तावेजों को खंगाले तो पूरा खेल सामने आ जाएगा। बशर्ते जांच आबकारी विभाग को न सौंपी जाए।

मुझे नहीं लगता कि शील्ड ठेकों से शराब बाहर निकाली जा सकती है। यदि ऐसी कोई शिकायत मिलती है तो कार्रवाई होगी।’

-सुशील कुमार, आबकारी आयुक्त।

कितने में बिकी प्रचलित ब्रांड 

ब्रांड दाम (रुपये)

रम                     800-1000

मैक्डाॅवल व्हिस्की  1000-1200

रॉयल स्टैग           1500-1800

ब्लैंडर / स्टर्लिंग     2000-2500

100 पाइपर        3000

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गुड न्यूज़ : गढ़वाल क्षेत्र के लिए अच्छी खबर। श्रीनगर मेडिकल कॉलेज में भी होगी कोरोना जांच

देहरादून। श्रीनगर मेडिकल कॉलेज को कोरोना जांच हेतु भारत सरकार एवं पीजीआई चंडीगढ़ ने अनुमति दे दी है। मेडिकल कॉलेज श्रीनगर के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में कोरोना लैब में अब जांच शुरू हो जाएगी। इसके प्रशिक्षण हेतु 5 सदस्य टीम 20, […]
images 20