कैंसर से जूझ रहे पिता के साथ न होकर कोरोना योद्धा बनी हुई हैं महिला कांस्टेबल

admin
PicsArt 04 17 06.42.37

पिता कैंसर से जूझ रहे हैं और उत्तराखंड पुलिस की महिला जवान ड्यूटी पर है मुुुस्तैद

हल्द्वानी। क्या आप सोच सकते हैं कि किसी के पिता कैंसर जैसी असाध्य बीमारी से जूझ रहे हों और उनके बच्चे उनके साथ खड़े न हों। लेकिन कोरोना जैसी महामारी ने ऐसी स्थिति खड़ी कर दी है कि उत्तराखंड पुलिस की एक महिला सिपाही को जब अपने पिता की सेवा में खड़ा होना चाहिए था, वह देश सेवा में अपने कर्तव्य का पालन कर रही हंै। उनके इस कदम की प्रदेशभर में सराहना हो रही है।
जी हां हम बात कर रहे हैं उत्तराखंड कांस्टेबल रुचि दत्त का। उनके पिता कैंसर से जूझ रहे हैं और वह कोरोना संकट की घड़ी में ड्यूटी पर अडिग अपना कर्तव्य निभा रही हैं।
हल्द्वानी में तैनात महिला पुलिस कांस्टेबल रुचि दत्ता अपने परिवार से दूर रहकर अपना फर्ज बखूबी निभा रही हैं। रुचि के पिता को कैंसर की बीमारी है, जिनका इलाज दिल्ली के एक अस्पताल से चल रहा है। इस कठिन समय पर रुचि अपने परिवार से पहले कर्तव्य को अहमियत देते हुए लॉकडाउन को सफल बनाने में जुटी हुई है।
FB IMG 1587129049288

रुचि कहती हैं कि लोग अपने घरों में सुरक्षित रहें, यही हमारा उद्देश्य है। रही बात परिवार की तो वह ड्यूटी के बाद उनसे फोन या वीडियो कॉल से बात कर अपने पिता का हालचाल जानती हैं। उनकी इस साहसीय वीरता की चर्चा और प्रशंसा समूचे उत्तराखंड में हो रही है। साथ ही वह कामचोर कर्मचारियों के लिए भी प्रेरणा का स्रोत बन गई हैं।

यह भी पढ़ें : सरकार के आदेश को ठेंगा दिखा रहा ऋषिकुल कालेज प्रशासन। कोरोना की ड्यूटी से कर रहे कामचोरी

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर उत्तराखंड : देहरादून में एक साल के बच्चे व महिला डॉक्टर में कोरोना पॉजीटिव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जानिए आईएएस एसोसिएशन उत्तराखंड पर कैसे भारी पड़ा नौ साल के अर्पित का "अर्पण"

नौ वर्षीय अर्पित ने अपने गुलक से निकले 8789 रुपए दिए प्रधानमंत्री केयर फंड में, जबकि प्रत्येक आईएएस ने दिए 5555 रुपये नीरज उत्तराखंडी/पुरोला। आज नगर पंचायत पुरोला का नौ वर्षीय अर्पित का अर्पण आईएएस एसोसिएशन उत्तराखंड पर भारी पड़ […]
IMG 20200417 WA0021