उत्तराखंड का ‘पनीर’ वाला गांव, जहां नई बहू को सबसे पहले सिखाते हैं पनीर बनाना

admin
FB IMG 1575221149838

उत्तराखंड का ‘पनीर’ वाला गांव, जहां नई बहू को सबसे पहले सिखाते हैं पनीर बनाना

मोहन पहाड़ी

रौतू की बेली, टिहरी (उत्तराखंड)। यह किसी भी सामान्य गांव की तरह ही दिखता है, लेकिन इस गांव का पनीर इसको दूसरे गांव से अलग बनाता है।

इस पूरे इलाके में इस गांव में बना हुआ पनीर बेहद प्रसिद्ध है। आलम यह है कि गांव में जितना प्रोडक्शन एक दिन में पनीर का होता है, वो पूरा पनीर बिक जाता है।

यही नहीं यहां पर जब कोई नई बहू आती है तो उसे सबसे पहले पनीर बनाना सिखाया जाता है। टिहरी जिले में मसूरी से उत्तरकाशी जाते वक्त बाईपास पर पड़ता है पनीर वाला गांव रौतों की बेली। यहां के लोग कुछ साल पहले तक दूध बेचा करते थे, लेकिन दूध से उतना फायदा नहीं हो पाता था, लेकिन अब पनीर से तीन-चार गुना लाभ मिल रहा है।

गाँव के मेहरबान सिंह भंडारी बताते हैं, “पहले गाँव में कोई रोजगार नहीं था, पशुपालन तो यहां पर हमेशा से ही होता, लेकिन दूध में कोई मुनाफा नहीं था, लेकिन पनीर में उत्पादन में काफी मुनाफा हो जाता है।

पहले यहां के लोगों का मुख्य व्यवसाय दूध बेचना था, यहां से लोग देहरादून दूध बेचने जाते थे, लेकिन 1980 के आसपास यहां पर पनीर का काम शुरू हुआ। पनीर उत्पादन यहां के लोगों का मुख्य रोजगार बन गया है, जब से यहां से उत्तरकाशी बाई पास बना है तब से पनीर यही पर बिक जाता है। पहले मसूरी में नीचे से पनीर आता था, वहां पर किसी ने बताया कि पनीर बनाओ पहले एक-दो घरों में पनीर बनता था, अब तो घर-घर पनीर बनने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

ब्रेकिंग: रिक्त पदों पर पंचायत चुनाव की तिथियां घोषित

ब्रेकिंग:  रिक्त पदों पर पंचायत चुनाव की तिथियां घोषित उत्तराखंड के 12 जिलों में (हरिद्वार को छोड़कर) ऱिक्त पंचायत पदों  पर निर्वाचन आयोग ने निर्वाचन की अधिसूचना जारी कर दी है। राज्य निर्वाचन कार्यालय से जारी अधिसूचना के तहत 19 […]
panchayat election