डीएम डाॅ. आर. राजेश कुमार ने सभी विभागों को दी सख्त हिदायत, बोले : कार्यप्रणाली और रीति-नीति में तत्काल लाएं परिवर्तन 

admin
dr. rajesh kumar
देहरादून/मुख्यधारा
  • जिलाधिकारी ने किया तहसील सदर का अप्रत्याशित और आकस्मिक निरीक्षण’’
  •  जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने सभी विभागों को सख्त संदेश दे दिया है कि सभी विभाग तत्काल अपनी कार्यप्रणाली और रीति-नीति में परिवर्तन लायें।
 तहसील सदर में उनके द्वारा किये गये आकस्मिक निरीक्षण में उन्हेांने तहसील काॅम्लैक्स में सामान्य नागरिकों को दी जाने वाली रोजमर्रा की सर्विस डिलीवरी गुणवत्ता, कर्मचारियों की उपस्थिति, तहसील द्वारा बनाये जाने वाले विभिन्न प्रकार के प्रमाण-पत्रों की पेन्डेंसी, साफ-सफाई, सिटिंग एरैन्जमेंट इत्यादि व्यवस्थाओं का अवलोकन करते हुए तहसीलदार सदर को सख्त चेतावनी दी कि तत्काल तहसील की कार्यप्रणाली में यथोचित सुधार करें नहीं तो कार्यवाही की जायेगी।
‘‘तहसील कार्मिकों की उपस्थिति पंजिका में प्राॅपर उपस्थिति दर्ज ना होने पर नाराज जिलाधिकारी’’ कार्मिक उपस्थिति पंजिका का अवलोकन करते समय कार्मिकों की उचित तरीके से उपस्थिति दर्ज ना होने पर जिलाधिकारी ने सभी उपस्थित कार्मिकों की परेड लगाई। तहसीलदार को सख्त निर्देश दिये कि उपस्थिति पंजिका का नियमित रूप से अवलोकन करें तथा प्रतिदिन कार्मिकों की उपस्थिति का विवरण उनको वाट्सएप्प पर प्रेषित करें। तहसीलदार द्वारा अवगत कराया गया कि 08 कार्मिक फिल्ड में गये हैं जिस पर जिलाधिकरी ने तहसीलदार को निर्देश दिये कि उन सभी 8 कार्मिकों के फिल्ड विजिट का आज का विवरण प्रस्तुत करेंगे कि वे कहां गये थे और क्या काम किया।
उन्होंने आगे निर्देश देते हुए कहा कि जो कार्मिक फिल्ड में जाते हैं उनका विवरण भी उपस्थ्तिि पंजिका में दर्शा दिया जाय कि फलां कार्मिक आज उस फिल्ड में उस काम से  गया है।  मूल निवास, जाति प्रमाण-पत्र, उत्तजीवी प्रमाण-पत्र, आय प्रमाण-पत्र इत्यादि की पेन्डेंसी (बैकलाॅग) चैक करते हुए जिलाधिकारी ने तहसीलदार को शीघ्रता से पेन्डेंसी खत्म करने तथा आगे से यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिये कि विभिन्न प्रकार के प्रमाण-पत्रों में किसी भी दशा में एक सप्ताह से अधिक पेंडेसी नहीं रहनी चाहिए। उन्होंने निर्देश दिये कि विभिन्न पटलों पर बैठने वाले कार्मिकों का नाम, मोबाईल नम्बर और क्षेत्र लिखा होना चाहिए साथ ही एन्ट्रीगेट पर भी सभी कार्मिकों का नाम, कार्यक्षेत्र और दूरभाष नम्बर लिखा होना चाहिए ताकि जनता को स्पष्ट जानकारी मिले कि सम्बन्धित कार्मिक उनके क्षेत्र से सम्बन्धित है।
जिलाधिकारी ने तहसील परिसर की खराब लिफ्ट के सम्बन्ध में तत्काल एमडीडीए और हुडा के अधिकारियों को दूरभाष पर निर्देश दिये कि तत्काल लिफ्ट को ठीक किया जाय ताकि वयोवृद्ध, गर्भवती महिला, बीमार, दिव्यांग आदि लोगों को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना ना करना पड़े। जिलाधिकारी को हुडा के अधिकारियों ने लिफ्ट ठीक करने का दूरभाष पर आश्वासन दिया, जिस पर जिलाधिकारी ने तहसीलदार सदर को लिफ्ट सुधारीकरण की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने परिसर में सामान्य जन से लेकर महिला और दिव्यांगजनों को साफ-सूथरी शौचालय, लोगों को बैठने, पेयजल तथा साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था बनाये रखने के निर्देश दिये। उन्होंने तहसीलदार सदर को आज दिये गये सभी निर्देशों का फाॅलोअप करते हुए उन पर अमल करने की रिपोर्ट भी प्रस्तुत करने को कहा।
इस दौरान आकस्मिक निरीक्षण में जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार के साथ वैयक्तिक सहायक वीरेन्द्र सिंह, तहसीलदार सदर दयाराम, नायब तहसीलदार जसपाल राणा सहित सम्बन्धित कार्मिक मीडियाकर्मी और सामान्य जन उपस्थित थे।

यह भी पढे : उत्तराखंड की निवेदिता कार्की ने चौथी युवा राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप में जीता गोल्ड मेडल। विश्व विजेता गीतिका को हराया

यह भी पढे : Big breaking : गणेश गोदियाल बने उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष, प्रीतम सिंह नेता प्रतिपक्ष। हरदा चुनावी कैप्टन

यह भी पढे : महाराज ने चौबट्टाखाल विधानसभा क्षेत्र में किया करोड़ों की योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

गोपेश्वर जिला में सील की गई दुकानों का नए सिरे से आवंटन

चमोली/मुख्यधारा नगरपालिका क्षेत्र गोपेश्वर में सील की गई दुकानों का नए सिरे से आवंटन किया गया है। इन दुकानों में पुराना आवंटन रद्व करते हुए वर्तमान समय में जो व्यवसायी वास्तव में दुकान चला रहे थे। उन्हीं व्यवसायियों को दुकानों […]
ph 1