दु:खद खबर : रुद्रप्रयाग में तैनात एसआई के आकस्मिक निधन से रुद्रप्रयाग पुलिस में शोक की लहर 

admin
PicsArt 06 11 06.11.26

रुद्रप्रयाग। रुद्रप्रयाग में तैनात सब इंस्पेक्टर रोबिन सिंह बिष्ट और उनके परिजनों ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि वह इतनी जल्द इस दुनिया को अलविदा कह देंगे। 2 दिन पहले वह चुस्त-दुरुस्त अपनी ड्यूटी पर तैनात थे। उनके साथियों को भी दूूर-दूर तक इस बात का एहसास नहीं था कि उनका मित्र उनसे अब बहुत दूर जाने वाला है, लेकिन गत दिवस पेट दर्द जैसी मामूली सी समस्या को लेकर अस्पताल पहुंचे रॉबिन बिष्ट फिर वहां से अपनों के पास नहीं लौट पाए। इस दुखद घटना के बाद जहां रुद्रप्रयाग जनपद की पुलिस ने शोक की लहर डूब गई है रोबिन बिष्ट के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है।

 बताते चलें कि उत्तराखंड पुलिस के 2015 बैच के उप निरीक्षक रोबिन सिंह बिष्ट पुत्र रमेश बिष्ट मात्र 30 वर्ष के थे। वह ग्राम चौंडी, पट्टी मल्ला बदलपुर, तहसील लैंसडौन, जनपद पौड़ी गढ़वाल के मूल निवासी थे तथा हाल मेें  110 शहीद भगत सिंह कॉलोनी अधोईवाला, देहरादून में रह रहे थे। उनकी तैनाती उखीमठ थाना रुद्रप्रयाग में थी।

10 जून की शाम को पेट दर्द की शिकायत हुई तो उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र उखीमठ ले जाया गया। जहां डॉक्टरों द्वारा उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। जिनका आज जिला अस्पताल रुद्रप्रयाग में पोस्टमार्टम के पश्चात पुलिस कार्यालय रुद्रप्रयाग में पुलिस अधीक्षक रुद्रप्रयाग की उपस्थिति में जनपद के सभी अधिकारी/कर्मचारियों द्वारा उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई।

FB IMG 1591811764626

उप निरीक्षक रोबिन सिंह बिष्ट के 2016 में पास आउट होने के पश्चात उनके द्वारा जनपद हरिद्वार, उत्तरकाशी व रुद्रप्रयाग में अपनी सेवा दी गई। जनपद में अपनी सेवा व सौम्य व्यवहार के कारण साथी कर्मियों एवं जनता के मध्य वह काफी लोकप्रिय थे। उन्हें जनपद पुलिस एक सच्चे पुलिसकर्मी के रूप में सदैव याद रखेगी।इस दुःख की घड़ी में समस्त पुलिस परिवार उनके शोक संतप्त परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता है।

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर : आज उत्तराखंड के इन तीन जिलों पर भारी पड़ा कोरोना। कुल आंकड़ा 1637

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उत्तरकाशी के मोरी ब्लाॅक में आई भीषण आपदा के जख्म अभी भी नहीं भरे

नीरज उत्तराखंडी/उत्तरकाशी आराकोट बंगाण क्षेत्र में आई भीषण आपदा के जख्म अभी भी नहीं भरे हैं। सड़क मार्गों और पुलों का निर्माण अभी भी अधर में हैं। पुलों का स्थायी निर्माण न होने से वैकल्पिक व्यवस्था भरोसे जनजीवन चल रहा […]
20200611 193748