सिंचाई योजना का लाभ न मिलने से गांव की महिलाएं आक्रोशित

admin
PicsArt 07 16 09.06.19

अंदूँणी गांव की महिलाएं पँहुची तहसील। अभी तक धान की रोपाई  न कर पाने से विभाग के खिलाफ नाराजगी

नीरज उत्तराखंडी/पुरोला

पुरोला विकासखण्ड के ग्राम पंचायत गुंदियाटगांव के अंदुणी गांव की महिलाओं ने आक्रोशित होकर तहसील परिसर में पँहुच कर विभाग के खिलाफ नारेबाजी कर अनदेखी का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि पोरा गांव के पास हाइड्रम योजना बनी है, लेकिन हमारे खेतों तक पानी नही पहुंच रहा है। जिस कारण रोपाई तो दूर, बल्कि धान की बिजाड़़े़ें सूखने लगी हैं। धान रोपाई का समय भी समाप्ति की ओर है, लेकिन हमने अभी तक रोपाई  शुरु भी नहीं की है।

महिलाओं ने सिंचाई विभाग पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए पोरा गांव के ग्रामीणों पर पानी न देने का आरोप भी लगाया। कहा कि कई बार विभाग के अधिकारियों के संज्ञान में लाया गया, लेकिन कोई कार्वाही नहीं की गई, जबकि उसी हाइड्रम से पोरा गांव के लोगों की धान रोपाई  हो रही है, लेकिन हमारे खेतों के लिए रखे गए पाईप जस के तस सूखे पड़े हैं।

वहीं दूसरी ओर शुशीला देवी, रमेशी, नीलम आदि महिलाओं ने कहा कि सिंचाई के बिना खेत सूखे पड़े हैं तो पीने का पानी भी पिछले कई महीनों से नहीं है, लेकिन विभाग बेसुध है। आक्रोशित महिलाओं ने नारेबाजी करते हुए उपजिलाधिकारी को मौके पर चलने की भी मांग की और कहा कि जब तक हमारी समस्याओं का समाधान नहीं होता, तब तक तहसील परिसर में ही धरना देंगे।

अधिशासी अभियंता सिंचाई हिमांशु कुमार ने कहा कि हाइड्रम का मामला लघु सिंचाई से संबंधित है, जबकि सिंचाई नहरों की मरम्मत, रखरखाव आदि कार्यो की जिम्मेदारी मनरेगा के माध्यम से विकासखण्ड को दी गयी है। आंदोलित महिलाओं में राखी, सुनीता, नीलम, अनिता देवी, रामकी देवी, शुशीला, रमेशी, शकुंतला देवी, इंदिरा आदि दर्जनों मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

हरेला : इन महत्वपूर्ण पहलुओं व सार्थक मानकों को ध्यान में रखकर ही मनाएं हरेला

रमेश पहाड़ी हरेला उत्तराखण्ड का लोक पर्व है। वर्षा के यौवन के साथ हरियाली की रंगत का यह पर्व धरती की बहुमुखी समृद्धि का दिग्दर्शक है। धरती का कोना-कोना जब नवजीवन का राग गाते हुए आगे बढ़ता है तो लोकमानस […]
PicsArt 07 16 09.53.32